आईएफएस ऑफिसर (IFS Officer) कैसे बने पूरी जानकारी

दोस्तों आज की इस आर्टिकल में हम आपको बताने वाले है की आईएफएस क्या है (What is IFS in Hindi) आईएफएस ऑफिसर कैसे बने पूरी जानकारी (How To Become a IFS Officer in Hindi) आईएफएस ऑफिसर बनने की योगयता क्या होना चाहिए (Eligibility for IFS Officer) आईएफएस ऑफिसर की एग्जाम पैटर्न क्या है (IFS Officer exam pattern) और आईएफएस ऑफिसर की सैलरी कितनी होती है (IFS Officer salary) तो आज में आपको पूरी डिटेल्स में बताऊंगा ये सब के बारे में तो इसलिए आप ये आर्टिकल पड़ते रहिये।

दोस्तों हर देश का विदेश में एक दूतावास होता है और उस दूतावास में उस देश के नागरिक काम करते हैं जो कि अपने देश और दूसरे देश के बीच में अच्छे संबंध बनाए रखने में काम करती हैं। इस विभाग में काम करना बहुत ही अच्छा होता है इसमें आपको सम्मान के साथ-साथ दूसरे देशों में घूमने का भी मौका मिलता है और दूसरे देश की संस्कृति को समझने का भी मौका मिलता है।

IFS Officer kya hai kaise bane
pic: pixabay

आज बहुत सारे युवा इस विभाग में नौकरी पाने  के लिए तैयारी कर रहे हैं इस विभाग में नौकरी पाना इतना आसान नहीं है। इस बार भी नौकरी पाने के लिए आपको कड़ी मेहनत करनी होगी और इसकी तैयारी करनी होगी।

अगर आप चाहते हैं कि आप दूतावास में नौकरी करें और देश के विदेश मंत्रालय में नौकरी पाएं तो आज हमारे इस आर्टिकल को पूरा ध्यान से पढ़ें।

आज मैं आपको  IFS के बारे में बताऊंगा। IFS  के जरिए ही आपको विदेश मंत्रालय में तथा दूसरे देश में हमारे देश के दूतावास में नौकरी मिलती है। आज मैं इस परीक्षा से जुड़ी हर जानकारी आपको विस्तार से दूंगा।

आईएफएस क्या है (What is IFS in Hindi)

IFS full form (Indian Foreign Service)

दोस्तों हमारे देश के विदेश मंत्रालय के कामों को संभालने के लिए एक विभाग बनाया गया है जिसे हम लोग भारतीय विदेश सेवा के नाम से जानते हैं और इस विभाग में काम करने वाले लोगों को IFS officer कहते हैं।

Indian foreign service केंद्र सरकार के तहत आती है इसके नियुक्ति की पूरी जिम्मेदारी केंद्र सरकार की होती है. इसमें काम कर रहे लोगों को हमारे देश के विदेश के मामले तथा विदेश से हो रहे व्यापार और विदेश से अपने देश के संबंधों को कैसे अच्छा बनाएं उनके तहत काम करती है।

आईएफएस ऑफिसर (IFS officer) किसी भी देश के लिए बहुत ज्यादा जरूरी होता है क्योंकि यह वही ऑफिसर होते हैं जो कि दूसरे देशों में अपने देश को represent करती है।

इनका काम होता है कि यह विदेशी सरकार और अपने देश की सरकार के बीच में समन्वय स्थापित करें ताकि दोनों देशों के बीच में व्यापारिक तथा सांस्कृतिक दोनों रिश्ते अच्छे रहें।

दोस्तों ifs officer को सम्मान आईपीएस ऑफिसर की तरह मिलता है और इनका काम भी IPS दर्जी का होता है। इन्हें हमारे देश के महत्वपूर्ण विदेशी मामलों को सुलझाना होता है।

अगर हमारे देश किसी देश के साथ कोई भी जमीन का मामला हो या कोई व्यापारिक मामला हो और किसी तरह का मामला हो इनकी जांच और इन को ठीक करने की जिम्मेदारी भी IFS officer की होती है।

आईएफएस ऑफिसर बनने की योगयता (Eligibility for IFS Officer)

IFS Officer बहुत ही जिम्मेदारी वाला पद होता है और इस विभाग में नौकरी करने के लिए कुछ योग्यताओं का मापदंड रखा गया है। दोस्तों अब हम लोग  Indian Foreign Service eligibility के बारे में जानेंगे।

  • Indian Foreign Service में  काम करने के लिए भारतीय नागरिक होना बहुत जरूरी है।
  • IFS officer के लिए आपको किसी भी विषय से किसी भी मान्यता प्राप्त यूनिवर्सिटी और कॉलेज से अपनी ग्रेजुएशन की डिग्री पास करनी होती है।

उम्र सिमा (AGE LIMIT)

Indian Foreign Service की परीक्षा के लिए आपकी उम्र कम से कम 21 साल और अधिक से अधिक 32 साल होनी चाहिए। आरक्षित वर्ग के छात्रों के लिए इस आयु सीमा में सरकार के द्वारा कुछ छूट दी गई है।

You May Like it

आईएफएस ऑफिसर कैसे बने (How To Become a IFS Officer in Hindi)

 Indian Foreign Service में नौकरी कैसे पाएं यह सबसे बड़ा सवाल होता है।

दोस्तों भारतीय विदेश सेवा में नौकरी पाने के लिए आपको सबसे पहले इसके सारे मापदंडों को पूरा करना होता है उसके बाद आपको इसके परीक्षा देनी होती है जो विद्यार्थी इस परीक्षा में सफल होते हैं उन्हें ही भारतीय विदेश सेवा में नौकरी प्राप्त होती है।

 1  ग्रेजुएशन की पढाई पूरी करे

किस विभाग में नौकरी करने के लिए आपको सबसे पहले किसी मान्यता प्राप्त यूनिवर्सिटी से किसी भी विषय में बहुत अच्छे अंकों के साथ अपनी ग्रेजुएशन की डिग्री प्राप्त करनी है। अपनी ग्रेजुएशन की डिग्री पूरी करने के साथ-साथ आपको इसके परीक्षा की तैयारी करने की जरूरत होती है।

 2  आईएफएस एग्जाम फॉर्म अप्लाई करे

अपनी ग्रेजुएशन के बाद आपको IFS EXAM  के लिए apply करें। इस एग्जाम के लिए अप्लाई करने के बाद आपको इसकी तैयारी बहुत अच्छे से करनी होती है यह परीक्षा UPSC द्वारा आयोजित कराई जाती है।

IFSC exam form के लिए आपको UPSC की ऑफिशियल वेबसाइट में जाना होता है वहां जाकर इस परीक्षा के फॉर्म को भरना होता है हर साल यह परीक्षा यूपीएससी द्वारा आयोजित कराई जाती है। यह परीक्षा हर साल फरवरी या मार्च के महीने में आयोजित होती है।

जो विद्यार्थी इस परीक्षा में सफल होते हैं उन्हें ही आगे ट्रेनिंग के लिए भेजा जाता है और ट्रेनिंग के बाद उन्हें विदेश मंत्रालय तथा दूसरे देशों में भारतीय दूतावास में काम करने के लिए भेजा जाता है।

आईएफएस की एग्जाम पैटर्न (IFS Exam Pattern)

किसी भी परीक्षा की तैयारी करने से पहले हमें उस परीक्षा की पैटर्न के बारे में जान लेना बहुत जरूरी होता है। परीक्षा का पैटर्न आपके तैयारी के लिए बहुत ही मददगार साबित होती है इससे आपको पता चलता है कि परीक्षा में किस तरह के प्रश्न पूछे जाते हैं और यह परीक्षा कितने चरणों में होती है यह सारी महत्वपूर्ण जानकारी आपको इस चीज से प्राप्त होती है।

तो अब हम लोग IFS exam pattern के बारे में जानेंगे। दोस्तों यह परीक्षा तीन चरणों में होती है पहले दो चरण के परीक्षा में आपकी लिखित परीक्षा होती है और जबकि तीसरे चरण की परीक्षा में इंटरव्यू होता है।

पहले चरण के परीक्षा को प्रारंभिक परीक्षा कहते हैं जबकि दूसरे चरण के परीक्षा को मुख्य परीक्षा तथा आखिर चरण की परीक्षा में आपका इंटरव्यू होता है।

 1  प्रारंभिक परीक्षा (Preliminary Exam)

दोस्तों प्रारंभिक परीक्षा में दो प्रश्न पत्र पूछे जाते हैं। दोनों प्रश्न पत्र में आपसे ऑब्जेक्टिव तरह के प्रश्न पूछे जाते हैं। इस परीक्षा में आपसे जनरल स्टडीज, इतिहास, भूगोल भारतीय विदेश नीति, भारतीय संस्कृति, भारतीय अर्थव्यवस्था, टेक्नोलॉजी, करंट अफेयर्स से प्रश्न पूछे जाते हैं।

दूसरा पेपर में आपसे अंग्रेजी रिजनिंग और एटीट्यूड जैसे विषय में से प्रश्न पूछे जाते हैं। दूसरे पेपर के मुख्य परीक्षा में बैठने के लिए Marks गिने नहीं जाता हैं पर इस परीक्षा में आपको 35% से 40% अंक लाने होते हैं।

प्रारंभिक परीक्षा के बाद आपको एक फॉर्म भराया जाता है जिसमें आपकी सारी डिटेल और आप इस तरह के पोस्ट के लिए अप्लाई करना चाहते हैं उसके बारे में भरना होता है।

 2  मुख्य परीक्षा (Mains Exam)

मुख्य परीक्षा में आपसे 9 प्रश्न पत्र पूछे जाते हैं हर एक प्रश्न पत्र अलग-अलग विषयों का होता है। पहला प्रश्न पत्र Ethics और नैतिकता से question पुछे जाते हैं।

3 question paper में general studies के question पुछे जाते हैं। एक Question Paper English, Hindi जैसे विषय से question पुछे जाते हैं। और एक प्रश्न पत्र में आपसे निबंध पूछे जाते हैं।

जो विद्यार्थी प्रारंभिक और मुख्य परीक्षा पास करते हैं उन्हें इंटरव्यू के लिए बुलाया जाता है। इंटरव्यू यूपीएससी के परीक्षा का आखिरी चरण होता है इसमें सफल हुए छात्रों को फिर सर्विस अलर्ट किया जाता है।

प्रारंभिक परीक्षा के बाद जो लोग फॉर्म भरा है उसके अनुसार उसे पोस्ट और सर्विस अलॉट किया जाता है और उनके रैंक के आधार पर उसको पोस्ट दिया लता है।

आईएफएस ऑफिसर की सैलरी (IFS Officer Salary)

दोस्तों किसी भी नौकरी के लिए उसकी सैलरी बहुत ही महत्वपूर्ण होती है और हम उस पोस्ट की सैलरी जान कर ही उस नौकरी को पाने में और बहुत ज्यादा अपनी मेहनत करते हैं।

दोस्तों IFS OFFICER की सैलरी ₹15600 से लेकर ₹40000 तक होती है। उन्हें हर माह ग्रेड पे के तौर पर ₹5400 भी मिलते हैं। जो आई एफ एस ऑफिसर विदेश में posted हैं उनकी सैलरी इन से कुछ अलग होती है।

और इनको सैलरी के अलावा और बहुत सारी सुविधाएं भी प्राप्त होती हैं साथ ही साथ इन्हें समाज में बहुत सम्मान भी मिलता है।

Conclusion

दोस्तों आज के इस आर्टिकल में हमने भारतीय विदेश सेवा के बारे में जानना है और इसमें कैसे नौकरी पाएं इसके बारे में जाना है।  जो आज हमने IFS kya hai, IFS kaise bane, IFS exam pattern  यह सारी महत्वपूर्ण जानकारियों को विस्तार से जाना है।

अगर फिर भी आपके मन में कोई भी प्रश्न है आप हमें कमेंट करके पूछ सकते हैं। आपको यह आर्टिकल पढ़कर कैसा लगा और इस आर्टिकल के संबंधित कोई सुझाव देना चाहते तो आप हमें कमेंट करके जरूर बताएं।

 धन्यवाद

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here