UG और PG क्या है कैसे करे – UG और PG Meaning in Hindi

दोस्तों आज की इस आर्टिकल में मैं आपको बताऊंगा की UG का अर्थ क्या होता है (UG Meaning in Hindi) और PG का अर्थ क्या होता है (PG Meaning in Hindi) UG or PG Me kya antar hai हर चीज बताऊंगा की Graduate or Post Graduate क्या होता है तो इसी के बारे में डिटेल्स में जानकारी देंगे इसलिए ये आर्टिकल लास्ट पड़ते रहना।

अभी जो भी छात्र दसवीं या नौवीं कक्षा में होते हैं उनके मन में यह प्रश्न रहता कि वह 12वीं के बाद क्या करें 12वीं के बाद कौन से कोर्स होते हैं और वह 12वीं के बाद किन कोर्स को कर सकते हैं 12वीं के छात्रों के भी मन में इस तरह के प्रश्न घूमते रहते हैं आज इस आर्टिकल में मैंने कोशिश किया है कि मैं आपको 12वीं के बाद आप कौन से कोर्स कर सकते करते हैं इसके बारे में सारी जानकारी दे सकूं।

इसमें आमतौर पर Under Graduate की Degree के स्तर तक के सभी Post secondry Programs शामिल होते हैं। उदाहरण के लिए, संयुक्त राज्य अमेरिका में, एक प्रवेश स्तर के विश्वविद्यालय के छात्र को Under Graduate के रूप में जाना जाता है, जबकि उच्च Degree वाले छात्रों को Post Graduate छात्रों के रूप में जाना जाता है।

UG or PG Meaning in Hindi
pic: pixabay

आपको  बताऊंगा कि:-

  • UG or PG k liye eligibility kya honi chaiye?
  • Best colleges for UG
  • Best colleges for PG
  • UG m admission Kaise le?
  • PG m admission Kaise le?
  • UG or PG करने के बाद क्या -क्या opportunities मिलती है?

कॉलेज और यूनिवर्सिटी स्तर पर छात्र इन undergraduate (UG) और postgraduate (PG) कोर्स में एडमिशन लेते हैं हम उन कोर्स के बारे में इस आर्टिकल में आपको बताने जा रहे हैं। तो चलिए इन सभी के बारे में विस्तार पूर्वक समझने का प्रयास करते हैं।

UG का अर्थ क्या होता है (UG Meaning in Hindi)

हम इस दुविधा में होते हैं कि क्या करें? आगे नौकरी करें या फिर पढ़ाई को ही जारी रखें? ऐसे में किसी भी बहुप्रतीष्ठित व सरकारी मान्यता प्राप्त संस्थान से UG / PG करना आपके लिए बहुत फायदेमंद हो सकता है जब आप अपनी College life के दौरान अपनी बैचलर डिग्री जैसे –  B.com / BBA / B.A / BSC / BCA / B.Tech/ BE/ BESc/ BSE/ BASc/ B.Tech आदि| को पूरा कर लेते है।

तो आप ग्रेजुएट (Graduate) यानी स्नातक बन जाते है. लेकिन जब आप बैचलर डिग्री की पढाई करते ही रहते हो तो उस समय आप UG यानी की Under Graduation कहलाते हो।

  • UG = Under Graduation
  • UG = स्नातक के तहत

PG का अर्थ क्या होता है (PG Meaning in Hindi)

जब आप अपनी Graduation यानी स्नातक डिग्री प्राप्त कर लेते है तो उसके बाद जब आप उसी Course में Master Degree प्राप्त कर लेते है तो आप Post Graduate माने जाते है जैसे – M.com / MSC / MCA / M.Tech  आदि|

यह उसी Course या Graduation का Advance version होते है जो आपने पहले की है Graduation पूरी होते ही आप Graduate माने जाते है और Graduation की advance Degree लेने पर आप Post Graduate हो जाते है।

  • PG = Post Graduation
  • PG = स्नातकोत्तर
  • PG एक Master degree होता है

UG क्या है पूरी जानकारी (Under Graduation in Hindi)

UG यह भारत का Undergraduate का एक System है। इसको दो भागों में बांटा गया है पहला Under Graduation (UG) और दूसरा Post graduation (PG) के नाम से जाना जाता है। आजकल ये दो नाम UG & PG बहुत ही प्रचलित है। कोई अगर UG & PG Course करता है तो वह सीधे कहता है की PG or UG कोर्स कर रहे है।

जैसा कि आप में से अधिकतर लोगों को पता होगा कि 12वीं की बाद हम लोग UG करते हैं और UG करने के बाद हम लोग PG का कोर्स कर सकते हैं। UG का मतलब Undergraduate और PG का मतलब Post Graduation होता है। UG का Course हम बारहवीं कक्षा के बाद कर सकते हैं, जिसमें 3 साल का कोर्स होता है। जिसमें हम अलग-अलग तरह के डिग्री के कोर्स कर सकते हैं। जिसको हम लोग बैचलर डिग्री कहते हैं।

जबकि PG को मास्टर डिग्री कहते हैं इसको आप undergraduate course के बाद कर सकते हैं।

Most Read: आरटीओ ऑफिसर (RTO Officer) क्या है कैसे बने

PG क्या है पूरी जानकारी (Post Graduation in Hindi)

खास बात तो यह है कि किसी Subject  में Post Graduation की Degree प्राप्त करने के बाद विभिन्न Government और Private संस्थानों में Candidates को अपने Job Profile में समान काम के लिए Graduate Candidates से कुछ ज्यादा Salery मिलती है।

कुछ कोर्स जाएदा समय के भी हैं जैसे इंजीनियरिंग 4 साल और मेडिकल 5 साल का कोर्स है। 12वीं के बाद डायरेक्ट LLB 5 साल व डायरेक्ट बीएड 4 साल का कोर्स है। हिंदुस्तान के किसी भी University या किसी भी College से Graduat / Postgraduatre किया जा सकता है।

ध्यान रखें कि University UGC से Recognized होनी चाहिए | अगर Engineering या Medical कर रहे हैं तो College AICTE से Recognized होना चाहिए | फार्मा PCI से, LLB कोर्स BCI से, BEd कोर्स NCTE से Recognized होना चाहिए | यह जरूर देख लें कि आप जो Course कर रहे हैं उसको जरुरी Recognition है।

UG के लिए योग्यता (Eligibility for Undergraduate Course in Hindi)

किसी भी छात्र को UG करने के लिए कम से कम 12वीं कक्षा पास होना अनिवार्य है। सबसे पहले 12वीं की परीक्षा पास करने के बाद हम undergraduate कोर्सेज यानी UG कोर्स करते हैं। जिसमें कि हमारे पास मन पसंदीदा विषय होते हैं, जिसकी अनु अनुसार छात्र अपने से 4 मनपसंद सब्जेक्ट choose करके बैचलर डिग्री या ग्रेजुएशन की डिग्री प्राप्त करते हैं। यह courses 3 वर्ष का होता है, जिसमें अलग-अलग courses होते हैं जैसे:-

  • B.com
  • B.A
  • B.sc….etc

इन कोर्स को करने के लिए छात्र को 12वीं क्लास में प्राप्त अंक के मुताबिक ही चार विषय पढ़ने होते हैं जिस भी विषय में उनके अच्छे नंबर आते हैं उन्हें उसी विषय से UG course करने की सलाह दी जाती है और 3 वर्ष के बाद उन्हें ग्रेजुएशन की डिग्री प्राप्त हो जाती है।

PG के लिए योग्यता (Eligibility for Post Graduate in Hindi)

जबकि पोस्ट ग्रेजुएट यानी PG course ग्रेजुएशन की डिग्री प्राप्त करने के उपरांत करते हैं। इसके लिए आपके पास ग्रेजुएशन की डिग्री होना चाहिए साथ ही साथ ग्रेजुएशन में आपका 50% अंक होना अनिवार्य है।

इसमें भी आपको यही सलाह दी जाती है कि जिस भी सब्जेक्ट के साथ आपने ग्रेजुएशन किया है, उसी सब्जेक्ट के साथ आप आगे PG का कोर्स करें। ताकि आपको आगे इससे लाभ पहुंच सके। यह कोर्स करने के बाद आपको मास्टर डिग्री मिल जाती है, जो कि 2 साल का होता है। किंतु कुछ PG कोर्स जैसे MLID यह 1 साल का होता है, लेकिन अधिकांश PG कोर्स 2 साल के होते हैं।

जैसे ग्रेजुएशन आपने बीए, बीकॉम या बीए करके पूरा किया तो आगे जब हम PG करते हैं तो उस समय भी हमारे पास बहुत सारे कोर्स ऐसे होते हैं जैसे:-

  • M.BA
  • M.A
  • M.com
  • M.Sc
  • M.Lib
  • M.ed
  • M.ca
  • M.Tech….etc

इन कोर्स को पूरा करने के बाद आप पोस्ट ग्रेजुएट हो जाते हैं और आपको पोस्ट ग्रेजुएशन उसी क्षेत्र में करना चाहिए जिस क्षेत्र में आपने ग्रेजुएशन पूरा किया है या फिर जिस क्षेत्र में आपका दिलचस्पी हो उसी फील्ड में पोस्ट ग्रेजुएट करें। लेकिन ज्यादा से ज्यादा आपको यही सलाह दी जाती है कि आप पोस्ट ग्रेजुएट उसी सब्जेक्ट से करें जिससे आपने ग्रेजुएशन किया है ताकि आपको पोस्ट ग्रेजुएशन करते समय परेशानी का सामना ना करना पड़े।

Best Colleges For Undergraduate

जब भी हम 12वीं के बाद UG कोर्स करने का निर्णय लेते हैं तो सबसे पहले हमारे सामने यही समस्या होती है कि कौन से कॉलेज से यह कोर्स करें तो आज मैं आपको best college for UG courses बताने जा रहा हूं:-

  1. Lady Shri RAM college  for women,University of Delhi
  2. St.Stephen’s college, University of Delhi
  3. St. Xavier’s college Kolkata
  4. Madras Christian college 
  5. University college , Thiruvananthapuram
  6. Ferguson college , Pune
  7. Presidency college , Chennai
  8. Government Home Science college ,Chandigarh
  9. Ramakrishna Mission Vidyamandira,Howard
  10. Deen Day-Lewis Upadhyaya college ,New Delhi

Best College For Post Graduate

अगर आप ग्रेजुएशन पूरी करने के बाद पोस्ट ग्रेजुएशन करना चाहते हैं तो आपको बेहतर कॉलेज का चुनाव करना अति आवश्यक है तो आज मैं आपको Best college  for PG courses बताने जा रहा हूं.

  1. LOYOLA college , Chennai
  2. St. Xavier’s college Mumbai
  3. Jain University, Banglore
  4. Miranda House ,New Delhi
  5. Hindu college , New Delhi
  6. Kalinga University, Raipur
  7. Ferguson college , Pune
  8. Ramkrishna Mission Vivekanada Centenary college  Rahara, Kolkata
  9. St. Stephen’s college , New Delhi
  10. Department of Science, Christ University (Bangalore)

UG  Course में दाखिला कैसे लें?

UG course में दाखिला लेना उतना मुश्किल नहीं है अगर आपने 12वीं कक्षा उत्तीर्ण कर ली है तो आप किसी भी सरकारी कॉलेज यूनिवर्सिटी या ओपन यूनिवर्सिटी से ग्रेजुएशन की डिग्री आप कर सकते हैं।

इसके लिए सबसे पहले आप अपने मन पसंदीदा कॉलेज का फॉर्म भरते हैं, उसके बाद आपको उस कॉलेज के entrance exam से गुजरना पड़ता है।

अगर आप entrance exam में pass हो जाते हैं। तो कॉलेज से एक merit list जारी किया जाता है जिसमें आपका नाम होता है, वह आपको कॉलेज जाकर पता करना होता है। उसके बाद कॉलेज द्वारा document verification होता है फिर आपका एडमिशन उस कॉलेज में हो जाता है।

PG Course कोर्स में दाखिला कैसे लें?

जैसा कि मैंने आपको पहले ही बताया कि PG का कोर्स हम UG कोर्स करने के बाद कर सकते हैं, क्योंकि इस पोस्ट को करने के बाद आपके पास अच्छा खासा जॉब का ऑप्शन रहता है और सैलरी भी अच्छी मिलती है।

PG में एडमिशन हेतु आपके पास ग्रेजुएशन की डिग्री होना चाहिए और ग्रेजुएशन में आपका 50% अंक होना अनिवार्य है। 

जैसे UG में फॉर्म भरने की प्रक्रिया होती है उसी प्रकार PG में भी होती है। सबसे पहले आप अपना कॉलेज सेलेक्ट करके PG कोर्स के लिए फॉर्म भरते हैं, फिर उस कॉलेज के द्वारा entrance exam लिया जाता है।

अगर आप वो entrance exam को क्लियर कर लेते हैं तो आपका डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन के बाद उस कॉलेज में दाखिला मिल जाता है।

Most Read: आयकर रिटर्न (ITR) क्या है Income Tax Return कैसे भरते है 

UG or PG करने के बाद क्या -क्या Opportunities मिलती है?

अगर आप किसी भी विषय से undergraduate डिग्री प्राप्त कर लेते हैं तो आप तकरीबन सभी प्रतियोगी परीक्षा (competitive exam) देने के काबिल बन जाते हैं। 

किंतु अगर आप पोस्ट ग्रेजुएट की डिग्री कर लेते हैं तो आपको अन्य ग्रेजुएट उम्मीदवार की तुलना में एक जैसे काम के लिए ज्यादा अच्छा वेतन मिल सकता है।

UG करने के बाद कई सारे फायदे होती है जैसे:-

  1. करियर को अच्छे स्तर तक पहुंचाने में मदद करती है।
  2. आप अपना जॉब प्रोफाइल बदल सकते हैं।
  3. आपकी स्किल्स डेवलप करने में भी मदद करती है।
  4. Exam clear करके गवर्नमेंट जॉब प्राप्त कर सकते हैं।
  5. बहुत सारे प्राइवेट जॉब अच्छी सैलरी के साथ कर सकते हैं।

PG करने के बाद बहुत सारे opportunities होते हैं 

 1  बैंकिंग फील्ड:- अगर आपने बैंकिंग या फाइनेंस से जुड़े हुए कोर्स इससे पोस्ट ग्रेजुएशन की है जैसे एमबीए, एम कॉम करके PG कंप्लीट की है तो आप बैंक सेक्टर में इन पदों पर करियर बना सकते हैं जैसे:- ब्रांच मैनेजर , कैशियर , बैंक clerk, लोन मैनेजर, ऑपरेशन मैनेजर इत्यादि पदों पर आप तैयारी करके नौकरी प्राप्त कर सकते हैं।

 2  प्राइवेट या कोऑपरेटिव सेक्टर:- इन क्षेत्रों में भी पोस्ट ग्रेजुएशन करने के बाद कई करियर विकल्प खुल जाते हैं। उनमें भी अच्छा अवसर है यहां से भी अच्छी सैलरी पैकेज आप प्राप्त कर सकते हैं।

 3  IT field:- अगर आपने आईटी information technology में कोई कोर्स किया है तो यह sector भी काफी तेजी से growth करता जा रहा है। इस सेक्टर में आप सॉफ्टवेयर इंजीनियर, प्रोडक्ट मैनेजर, सॉफ्टवेयर डेवलपर इत्यादि पदों पर नियुक्त किए जा सकते हैं।

 4  सेल्स या मार्केटिंग सेक्टर:- यह क्षेत्र भी काफी तेजी से बढ़ रहा है सेल्स और मार्केटिंग के क्षेत्र में उन छात्रों का चुनाव किया जाता है। जो पोस्ट ग्रेजुएशन में MBA या M.com वाले छात्र हैं उनके लिए यह सेक्टर काफी लाभदायक साबित हो सकता है।

 5  डिजिटल मार्केटिंग:- जैसा की आप सभी को पता है कि आजकल जितने भी चीज है , सबको ऑनलाइन प्लेटफार्म में शिफ्ट किया जा रहा है।

जिस कारण से  SEO manager, ईमेल मार्केटिंग, digital manager, मार्केटिंग मैनेजर जैसे जॉब बहुत सारे फील्ड में हमें देखने को मिलते हैं, जिसमें की पोस्ट ग्रेजुएशन होना अनिवार्य है।

UG में अंतर 

 1  UG Undergraduate के लिए है, जो student 12th की पढ़ाई पूरी कर लेते है इसके बाद अंडरग्रेजुएट का कोर्स करते है इसे हमलोग Bachelor Degree भी कहते हैं जैसे Bcom, BA, BSC आदि, इसे पूरा होने में आमतौर पर 3 साल लगते हैं।

 2  UG को Under Graduation या Bachelor Degree भी कहते है

PG में अंतर

 1  जो स्टूडेंट Under Graduate की Degree कर लेते हैं उसके लिए ये कोर्स है यानी इसके बाद Post Graduate Course को करते हैं जिसे हमलोग Master Degree भी कहते हैं इसे हिंदी में PostGraduate भी कहते है जैसे M.com, MA, M.sc आदि को पूरा होने में 2 साल लगते हैं।

 2  PG को Post Graduation या Master degree भी कहते है

 3  PG की Full Form (Post Graduate) होती है तथा ये Course Bachelor Course के बाद ही किया जा सकता है भारत में PostGraduate Course को Graduate ही माना जाता हैं परन्तु PostGraduate Course Specialisation के अंतर्गत है.

Most Read: स्टेनोग्राफर (Stenographer) क्या है कैसे बने

Conclusion 

आज के इस आर्टिकल में मैंने आपको UG और PG क्या है? इस बारे में बताया साथ ही मैंने आपको बताया कि UG कोर्स के लिए क्या योग्यता होनी चाहिए? और PG कोर्स के लिए क्या योग्यता होनी चाहिए? उसके बाद मैंने आपको UG और PG के best college का नाम भी बताया? और UG और PG करने के क्या फायदे हैं?

इसके बारे में भी आपको बताया अगर आपको यह आर्टिकल अच्छा लगा तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर अवश्य करें और अगर आपके मन में इस से संबंधित कोई भी प्रश्न हो तो आप हमें कमेंट बॉक्स में कमेंट करके पूछ सकते हैं।

धन्यवाद!

Leave a Comment